अलीगढ़ | बस के आगे फेंककर हत्या का आरोप, मुकदमा दर्ज



डेस्क समाचार दर्पण लाइव

अलीगढ़ | एटा चुंगी बाईपास पर महुआ खेड़ा क्षेत्र में देवी नगला के सामने बुधवार सुबह-सुबह एक युवक और उसके साथ चल रही गाय की रोडवेज बस चपेट में आकर मौत हो गई। इस मामले में युवक के परिवार ने मोहल्ले के ही कुछ लोगों पर जमीनी विवाद में मारपीट करने व बस के आगे फेंककर हत्या का आरोप लगाया। परिवार के लोग एसएसपी से मिलने भी पहुंचे। फिलहाल पुलिस ने परिवार की मांग पर हत्या का नामजद मुकदमा दर्ज कर लिया है। बाकी सीसीटीवी की जांच के आधार पर मुकदमे पर निर्णय लिया जाएगा।

घटनाक्रम के अनुसार मूल रूप से सिकंदराराऊ हाथरस के 35 वर्षीय मुकेश यादव करीब पांच माह से अपनी बहन मिथलेश के घर देवी नगला में रह रहे थे। शनिवार सुबह सुबह वे अपनी भांजी राखी संग घर से किसी काम से निकले, तभी बाईपास पर उनकी व एक गाय की बस की चपेट में आकर मौत हो गई। इस सूचना पर मौके पर पहुंचे परिवार ने हत्या का आरोप लगाकर हंगामा खड़ा कर दिया। हालांकि तब तक चालक बस लेकर भाग गया। परिवार का कहना है कि मुकेश के बहन-बहनोई का मोहल्ले के ही एक परिवार से जमीन को लेकर विवाद चल रहा है। जमीनी विवाद में दूसरे पक्ष ने मुकदमा दर्ज करा कर बहनोई को जेल भिजवा दिया है। उसी मुकदमे की पैरोकारी व बहनोई की जमानत कराने के कारण मुकेश यहां रह रहे थे। उन्हीं लोगों ने सुबह राखी व मुकेश को घेर लिया और हथियारों से धमकाते, मारपीट करते व हवाई फायरिंग करते हुए बस के आगे फेंककर हत्या की है। यही दलील परिवार ने दोपहर में एसएसपी के सामने रखी। एसएसपी के निर्देश पर पुलिस ने नामजद कुलदीप, प्रदीप, उमेश, मनीष, सोनू, आशीष के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। इंस्पेक्टर विनोद कुमार ने बताया कि घटना का एक सीसीटीवी मिला है, जिसे जांच का हिस्सा बनाया जाएगा। सीसीटीवी में साफ है कि रोड पर चलते समय अचानक मुकेश व एक गाय रोडवेज बस की चपेट में आ गए हैं। फिलहाल तथ्यों की जांच की जा रही है। उसी अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

जिन लोगों से जमीनी विवाद, उन्हीं पर आरोप

मामा की मौत पर भांजी राखी ने जिन लोगों पर मुकदमा दर्ज कराया है। उन्हीं से पांच सौ गज के प्लाट का विवाद है। उसी विवाद में उसके पिता, मां आदि पर आशीष ने मुकदमा बन्नादेवी में दर्ज कराया है, जिसमें फर्जीवाड़े का आरोप है। इस मुकदमे में पिता जेल में हैं, जबकि मां की अंतरिम जमानत अर्जी न्यायालय में लंबित है। जिन लोगों पर आरोप है, उन लोगों की मोबाइल लोकेशन आदि भी पुलिस देख रही है। उन्होंने पुलिस से बातचीत में खुद को निर्दोष बताया है और मुकदमा झूठा करार दिया है।

और नया पुराने

खबर पढ़ रहे लोग: 0