अलीगढ़ | साधु आश्रम के संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य की हत्या का दूसरे आरोपित को जेल

 

डेस्क समाचार दर्पण लाइव

हरदुआगंज : कस्बा क्षेत्र के साधू-आश्रम स्थित श्रीसर्वदानंद संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. हरवीर सिंह की हत्या के मास्टरमाइंड सगे भतीजे रामपाल के साथी अभय कुमार चौहान को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा है।

हरदुआगंज के साधूआश्रम स्थित श्रीसर्वदानंद संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. हरवीर सिंह की 29 नवंबर 2013 को महाविद्यालय के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मामले में भतीजे रामपाल सिंह ने गांव ग्वालरा के अधिवक्ता महान प्रताप सिंह, रविप्रताप उर्फ बिंका प्रधान सहित सात लोगों को नामजद कराया था। वहीं अविवाहित प्राचार्य डॉ. हरवीर सिंह की हत्या के चंद माह बाद ही मृतक आश्रित में नौकरी संपत्ति पर की दावेदारी को लेकर पारिवारिक विवाद शुरू होने पर प्राचार्य के भतीजे रामपाल पर नौकरी व बैंक में जमा करीब 33 लाख रूपए की संपत्ति पर को हड़पने के उद्देश्य से प्राचार्य की हत्या का आरोप लगाते हुए दूसरा भतीजा न्यायालय सिविल जज, सीनियर डिवीजन की अलीगढ़ कोर्ट पक्षकार बना था, करीब डेढ़ साल तक चली कानूनी जंग के बीच छत्रपाल कोर्ट के समक्ष साक्ष्य प्रस्तुत कर रामपाल द्वारा मृतक आश्रित में नौकरी पाने व 33 लाख की रकम के लालच में प्राचार्य की हत्या किए जाने के आरोप को साबित करने में सफल रहा। बीते साल साक्ष्यों के आधार पर कोर्ट ने रामपाल, नेत्रपाल, किशनपाल उनके पिता रनवीर सहित हरदुआगंज के गांव भवनगढ़ी निवासी नारायण सिंह, बच्चू सिंह व बरौठा निवासी अभय चौहान को  हत्यारा करार हुए गैरजमानती वारंट जारी किए थे, वहीं पुलिस ने बीते साल सात सितंबर को मुख्य आरोपित प्राचार्य के भतीजे रामपाल को महाविद्यालय से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, अन्य नामजद फरार चल रहे थे, एसओ रामवकील सिंह ने बताया कि हत्या के दूसरे नामजद अभय कुमार चौहान को गिरफ्तार कर जेल भेजा है

और नया पुराने

खबर पढ़ रहे लोग: 0