अलीगढ़ | जमीन वापस लेने पर की थी मां-बाप की हत्या,बेटे से दुखी बुजुर्ग दंपती खेत में झोपड़ी बनाकर रहते थे

SDLive News

अलीगढ़ में दो दिन पहले हुई बुजुर्ग दंपती की हत्या का पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। पुलिस के मुताबिक, जमीन वापस लेने से नाराज होकर बेटे ने माता-पिता की गला दबाकर हत्या कर दी। इसको लेकर उसका माता-पिता से कई दिनों से झगड़ा हो रहा था। पुलिस ने हत्यारोपी बेटे को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। मामला इगलास थाना क्षेत्र के बादामपुर गांव का है।

पुलिस के मुताबिक, बादामपुर गांव की एक झोपड़ी में 80 साल के रामजीलाल का कुछ दिन पहले बेटों से झगड़ा हुआ था। इसके बाद पिता ने बेटों से 20 बीघा जमीन वापस ले ली। वह पत्नी के साथ खुद ही जमीन की देखभाल कर रहे थे। वहीं, बुजुर्ग दंपती घर छोड़कर खेतों में झोपड़ी बनाकर रहते थे।

25 मार्च को दंपती की मिली थी लाश

25 मार्च को रामजीलाल और उनकी पत्नी भगवान देवी की लाश झोपड़ी में मिली थी। पोती सुबह घर पहुंची, तो घटना का पता चला। उसने मामले की जानकारी घरवालों को दी। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने FIR दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी थी। प्राथमिक जांच में दंपती के बेटों पर हत्या का शक हुआ। इसके बाद पुलिस ने तीनों बेटों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की।

आरोपी बेटा बोला- मेरे पास दूसरा कोई रास्ता नहीं था

पुलिस ने जब सख्ती दिखाई, तो दंपती के बड़े बेटे राजेंद्र हत्या करने की बात स्वीकार की। आरोपी ने बताया कि तीनों भाई अपने-अपने हिस्से की जमीन पर खेती-बाड़ी कर रहे थे, लेकिन पिता ने जमीन वापस ले ली। मैं काफी परेशान था। जमीन को लेकर माता-पिता से झगड़ा भी हुआ था।

राजेंद्र ने बताया, ''24 मार्च की रात मैं माता-पिता से बात करने के लिए पहुंचा। लेकिन दोनों कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थे। दूसरा कोई रास्ता नहीं था, इसलिए गला दबा दिया। सोचा कि इससे जमीन खुद-ब-खुद मेरे नाम आ जाएगी। किसी को शक न हो इसलिए घर जाकर सो गया।''

SSP बोले- जमीन के लिए की गई हत्या

SSP कलानिधि नैथानी ने बताया कि आरोपी बेटे को हिरासत में लेकर कानूनी कार्रवाई की जा रही है। अभी आरोपी से विस्तृत पूछताछ जारी है। जिसके बाद उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा और जेल भेजा जाएगा। आरोपी ने जमीन के लिए अपने माता-पिता की हत्या की है।

उन्होंने बताया कि ​​​​​​फोरेंसिक टीम के जरिए वैज्ञानिक साक्ष्य जुटाए गए थे। मामले की जांच के लिए पुलिस की दो टीमों का गठन किया था। 48 घंटे के अंदर टीमों को सफलता मिल गई।

और नया पुराने

खबर पढ़ रहे लोग: 0