You have to wait 20 seconds.


कौन हैं प्रशांत सिंघल? जिन्होंने अलीगढ़ से मेयर बनकर मां का सपना किया पूरा

SDlive News

यूपी निकाय चुनाव में अलीगढ़ से भारतीय जनता पार्टी ने शहर के जाने-माने उद्योगपति प्रशांत सिंघल को मेयर का प्रत्याशी बनाया था। शनिवार को निकाय चुनाव की मतगणना प्रारंभ हुई तो प्रशांत सिंघल ने मतगणना के प्रारंभ से ही बढ़त बनाते हुए रहे और जीत हासिल की।

भारतीय जनता पार्टी द्वारा प्रशांत सिंघल को जब टिकट दिया था उस समय उनके घर पर काफी संख्या में भारतीय समाज पार्टी के कार्यकर्ता नेता और उनके जानने वाले पहुंचे थे। इस दौरान मीडिया से बात करते हुए उनकी मां ने कहा था कि मैं चाहती हूं कि मेरा बेटा मेयर बने।

शनिवार को जब मतगणना प्रारंभ हुई तो प्रशांत सिंघल और पार्टी के लोग मतगणना स्थल पर पहुंच गए थे। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो शुरुआती दौर में तो उनके घर में भी लोग चिंतित नजर आए लेकिन जैसे-जैसे समय बढ़ता गया परिवार के लोग खुश नजर आते गए।

दोपहर बाद परिवार को यह पूरा उम्मीद हो गया कि प्रशांत सिंघल चुनाव जरुर जीतेंगे। उसके बाद उन्हें जानने वाले लोग बधाई देना प्रारंभ कर दिए। जब जीत की सूचना मिली तो पार्टी कार्यालय में भी लोग जश्न मनाने लगे, शाम तक बधाई देने वालों का तांता लगा रहा है।

यह भी बता दें कि 2017 में भारतीय जनता पार्टी को यहां हार का सामना करना पड़ा था। 2017 में यहां से बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी मो. फुरकान जीत हासिल किए थे, ऐसे में भारतीय जनता पार्टी इस बार यह सीट अपने हाथ से फिसलने नहीं देना चाहती थी।

ऐसे में पार्टी के सदस्यों और अन्य लोगों से बातचीत कर पार्टी मुख्यालय द्वारा जांच पड़ताल करते हुए प्रशांत सिंघल को टिकट दिया गया था। प्रशांत सिंहल के पिता रमेश चंद्र सिंघल उद्योगपति होने के साथ ही एक समाजसेवी के रूप में समाज से हमेशा जुड़े रहे।

वहीं सिंघल परिवार का भारतीय जनता पार्टी से भी काफी लगाव रहा। यही कारण था कि भारतीय जनता पार्टी ने प्रशांत सिंघल पर भरोसा जताया और उन्हें टिकट दिया। भले ही भारतीय जनता पार्टी में अभी तक प्रशांत किसी बड़े पद पर नहीं रहे लेकिन पार्टी के टिकट पर सीधे अब वह मेयर बन गए हैं।

यह भी बता दें कि 26 वें राउंड की मतगणना में प्रशांत सिंघल को 187634 वोट मिले जबकि समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार हाजी जमीर उल्लाह को 132755 वोट मिले। वहीं बहुजन समाज पार्टी प्रत्याशी सलमान राशिद को 49065 वोट से ही संतोष करना पड़ा।


एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने