अलीगढ़। श्री सिद्धपीठ माता चिन्तपूर्णी देवी मंदिर, न्यू आर के पुरम, जानें मंदिर की मान्यता

ब्यूरो, अभिषेक चौधरी

श्री सिद्धपीठ माता चिन्तपूर्णी देवी व मनकामेश्वर महादेव मंदिर न्यू आर के पुरम, आगरा रोड़, अलीगढ़ में स्थापित है। मंदिर में माँ दुर्गा, महाकाली, माँ सरस्वती, शिव परिवार, श्रीराम दरबार, श्रीराधाकृष्ण, हनुमानजी, चित्रगुप्त महाराज, शनिदेव, जाहरवीर बाबा एवं भैरों बाबा के विग्रह विराजमान हैं। प्रत्येक वर्ष 14 अप्रैल को मंदिर के स्थापना दिवस के अवसर पर मंदिर से भव्य शोभायात्रा निकाली जाती है एवं सभी धार्मिक पर्व भी बड़ी धूमधाम से मनाए जाते हैं। सावन के पावन माह में हर हर महादेव के जयकारे लगाते शिवभक्तों की अपार भीड़ मंदिर में देखने को मिलती है।

मंदिर का इतिहास :

मंदिर लगभग 20 वर्ष पुराना है। वर्ष 2002 में श्री नवीन सक्सैना द्वारा अपनी जमीन मंदिर निर्माण हेतु दान में दी गई जिसके लगभग एक वर्ष उपरांत शुभ मुहुर्त में मंदिर का निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ।

मंदिर की मान्यता :

मंदिर में लगभग 350 वर्ष पुराना एक पीपल का वृक्ष है जिसके नीचे शिव परिवार के विग्रह स्थापित हैं, सनातन धर्म में मान्यता होती है कि यदि कोई जातक पीपल के वृक्ष के नीचे स्थापित शिवलिंग की पूजा अर्चना करता है तो उसे सभी भौतिक सुख-सुविधाओं की प्राप्ति होती है।

" स्थानीय निवासियों का मानना है कि माता चिन्तपूर्णी देवी के दरबार में मनवांछित फलों की प्राप्ति होती है। 

- प्रमोद कुमार सक्सैना, पुजारी

मन्दिर में आने पर अपार शांति और आनंद का अनुभव होता है। कॉलोनी में मंदिर की स्थापना होने के बाद से छोटे-छोटे बच्चे भी मिलजुलकर प्रतिदिन बड़े श्रद्धा भाव से भगवान के विग्रहों की सेवा करते हैं।


- विवेक कुमार सक्सैना, भक्त

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने