बुलंदशहर | विधायक के प्रयास से गन्ना किसानों को मिलेगी बड़ी राहत

 


रिपो० ललित चौधरी

बुलंदशहर : स्थानीय दि किसान सहकारी चीनी मिल विगत एक मई से पावर टरबाइन में अचानक बड़ी समस्या आने के कारण बंद पड़ी थी। जिस कारण क्षेत्र के हजारों किसानों के अवशेष गन्ने की खरीद नहीं हो पा रही थी। चीनी मिल चालू न होने पर क्षेत्रीय विधायक ने मामले का संज्ञान लेकर गन्ना आयुक्त लखनऊ से वार्ता कर किसानों की समस्या का समाधान कराया। हजारों किसानों बचा हुआ गन्ना जिले की ही दो चीनी मिलों पर डाला जाएगा।


दि किसान सहकारी चीनी मिल पिछले एक हफ्ते से अधिक समय से पावर टर्बाइन में खराबी आने के कारण बंद पड़ी हुई थी। चीनी मिल से जुड़े हुए क्षेत्र के हजारों किसानों पर मिल बन्द होने से गन्ने को लेकर गहरा संकट छा गया। किसानों की समस्याओं को देखते हुए क्षेत्रीय विधायक संजय शर्मा ने गन्ना आयुक्त उत्तर प्रदेश संजय आर भुसरेड्डी से बातचीत कर किसानों की समस्या का समाधान कराया। विधायक द्वारा गेट व बाह्य गन्ना क्रय केंद्रों पर लगभग एक लाख कुंतल अवशेष गन्ने के डायवर्जन की मांग की गई थी। इसकी स्वीकृति मिल गई है। वहीं क्षेत्रीय विधायक संजय शर्मा ने बताया कि गन्ने की खरीद अब वर्तमान पेराई सत्र 2020-21 की शेष अवधि के लिए नजदीकी साबितगढ़ एवं अनामिका चीनी मिल में की जा सकेगी। उधर चीनी मिल के गन्ना अधिकारी मनोज कुमार ने बताया कि मील संबंधी वहन किए जाने वाले खर्च भी नवचयनित मीलों द्वारा किए जाएंगे। चीनी मिल के प्रधान प्रबंधक वैभव मिश्रा ने बताया कि गन्ना आयुक्त द्वारा किए गए आदेशों की कॉपी प्राप्त हो चुकी हैं। गन्ना खरीद हेतु डायवर्जन साबितगढ़ व अनामिका मील के लिए किया गया हैं। गन्ने की समस्या का समाधान होने पर क्षेत्र के सैकड़ों किसानों ने क्षेत्रीय विधायक संजय शर्मा का आभार व्यक्त किया। गन्ना डायवर्जन की नीति से असंतुष्ट किसान संगठनों ने किया प्रदर्शन

 क्षेत्रीय विधायक के हस्तक्षेप के बाद दि किसान सहकारी चीनी मिल को शासन स्तर से गन्ना डायवर्जन की नीति को मंजूरी मिल गई हैं। लेकिन गन्ना डायवर्जन नीति से नाराज भाकियू महाशक्ति के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को मिल परिसर में ही धरना प्रदर्शन करते हुए मिल के मुख्य गन्ना अधिकारी को बंधक बनाकर अपने साथ ही बैठा लिया।


मिल की टर्बाइन खराब होने के कारण मिल में पेराई कार्य बाधित चल रहा था जो मेगा जेनरेटरों से भी संचालित नहीं किया जा सका। शासन स्तर से वार्ता के बाद मिल के गन्ना किसानों का गन्ना साबितगढ़ व अनामिका शुगर मिल के लिए डायवर्ट करने का चार्ट जारी कर दिया गया हैं। इस चार्ट से नाराज भाकियू महाशक्ति के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर धर्मेंद्र सिंह व संगठन मंत्री जगत सिंह सिसोदिया के नेतृत्व में सैकड़ों किसानों ने मंगलवार को चीनी मिल में प्रदर्शन करते हुए सीसीओ को बंधक बना लिया। प्रदर्शन की सूचना पर स्थानीय पुलिस व एसडीएम अनूपशहर भी पहुंचे और किसानों नेताओं को समझाने का प्रयास किया। लेकिन समाचार लिखे जाने तक किसान नेताओं का धरना जारी रहा।


वर्जन

किसानों ने चीनी मिल में ही गन्ना तौल कराने की मांग की है लेकिन शासन द्वारा किसानों को गन्ना दो चीनी मिलों में डायवर्जन कर दिया गया है। किसानों के धरने को लेकर डीसीओ से वार्ता की जा रही है शीघ्र ही किसानों का समस्या का समाधान किया जायेगा

वैभव मिश्रा, प्रधान प्रबंधक

दि किसान सहकारी चीनी मिल।

और नया पुराने

खबर पढ़ रहे लोग: 0