अलीगढ़ | हरदुआगंज में पीएम आवास में जियो टैगिंग फर्जी, किश्तों का बंदरबांट

 

-  हमीरपुर की भगवान देवी के खाते में पहुँच गयीं अलीगढ की मंजू की दो किश्त

-  पीओ ने बैंक को लिखा पत्र, पैसा वापस कराकर लाभार्थी को दिलाने का आग्रह

डेस्क समाचार दर्पण लाइव

अलीगढ। प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना में डूडा कार्यालय से 'खेल' हो गया है। 'खेल' ये हुआ कि हरदुआगंज की लाभार्थी मंजू की 2 किश्त जनपद हमीरपुर की भगवान देवी के खाते में पहुँच गयीं हैं। और उक्त घटनाक्रम ये बताने के लिए काफी है कि जियो टैगिंग फर्जी हुई हैं और किश्तों का बंदरबांट हुआ है। बात फैलने पर डूडा के परियोजना निदेशक पीके मिश्रा ने बैंक को पत्र लिखकर पैसा वापस कराने व लाभार्थी को पैसा दिलाने का आग्रह किया है।

कैनरा बैंक की हरदुआगंज शाखा को ये पत्र 23 अप्रैल को लिखा गया है। पत्र में डूडा पीओ प्रभात कुमार मिश्रा ने कहा कि मंजू देवी पत्नी कमल के खाते में वर्ष 2018 में 50 हजार की पहली किश्त 4 अक्टूबर और डेढ़ लाख की दूसरी किश्त वर्ष 2018 में ही 28 नवम्बर को अंतरित की गई थीं। परन्तु ये दोनों किश्त डूडा पीओ के मुताबिक जनपद हमीरपुर के बनवारी लाल के खाते में पहुँच गयी हैं। हालांकि बैंक प्रबंधक अनामिका सिंह ने स्पष्ट किया कि कैनरा बैंक में ही उक्त खाता जनपद हमीरपुर की भगवान देवी वर्मा पत्नी प्रेम वर्मा के नाम है। इस पत्र में पीओ ने बैंक से उक्त धनराशि वापस करवाते हुए लाभार्थी मंजू देवी के खाते में जमा करवाने का अनुरोध किया है।

आधार सीडिंग बताया कारण

डूडा पीओ पीके मिश्रा ने इस गड़बड़ी का कारण मंजू का आधार कार्ड की अन्य खाते में सीडिंग को बताया है। हालांकि हड़बड़ी में वे इतना भी भूल गए कि मंजू का आधार कार्ड की सीडिंग भगवान देवी के खाते में कैसे हो सकती है।

तीसरी किश्त ने खोला राज

अप्रैल माह में डूडा कर्मी जब मंजू से मिला तो दंग रह गया। हरदुआगंज के अहीरपाडा निवासी मंजू के घर अचानक पहुँचे डूडा कर्मी ने जब ये पूछा कि तीसरी किश्त जारी होनी है लेकिन आपने तो अभी तक पहली दो किश्त इस्तेमाल ही नहीं की। इस पर मंजू हैरान रह गयी और उसने बताया कि उसे तो कोई पैसा ही नहीं मिला। इस सूचना पर डूडा कार्यालय में भी हड़कम्प मच गया। आनन फानन बैंक को पत्र लिखा गया।

पीड़ित ने थाने में दी तहरीर

पीड़िता मंजू देवी ढाई वर्ष से कार्यालयों के चक्कर काटकर परेशान है। 2 महीने पहले ही उसे पता लगा कि उसका पैसा हमीरपुर में किसी अन्य पर पहुँच चुका है। पीड़िता ने उक्त जानकारी के बाद हरदुआगंज थाने में तहरीर देकर कार्यवाही की मांग भी की है।

और नया पुराने

खबर पढ़ रहे लोग: 0