You have to wait 20 seconds.


बुलंदशहर। गोपाल हत्याकाण्ड का खुलासा : दो सप्ताह पहले हुई थी गोपाल की हत्या, सिर और धड़ को अलग अलग जगहों से हुआ था बरामद, दो हत्यारोपी आलाकत्ल दरांती सहित गिरफ्तार

 

रिपो० रिशू कुमार

बुलन्दशहर/ड़िबाई। ड़िबाई में बीते दिनों 24 मई को एक व्यक्ति का सिर कटा शव जनपद अलीगढ़ के थाना अतरौली क्षेत्र में जादोंपुर बम्बे के पास मिला था तथा अगले दिन 25 मई को उसका सिर थाना डिबाई क्षेत्रांतर्गत ग्राम बामनी के जंगल में मिला था जिसकी शिनाख्त गोपाल पुत्र किशोरीलाल उम्र 32 वर्ष निवासी ग्राम रल्ला थाना डिबाई जनपद बुलन्दशहर के रूप में हुई थी। इस घटना के सम्बन्ध में मृतक के मामा के लड़के अरविन्द कुमार द्वारा थाना डिबाई पर धारा 302,120बी, 201 में मृतक की पत्नी लक्ष्मी देवी व अन्य अज्ञात विरुद्ध पंजीकृत कराया गया था। 

प्रभारी निरीक्षक थाना डिबाई द्वारा पूरी घटना की गहनता से जांच की गई, छानबीन में मृतक गोपाल के ससुर होराम सिंह व साले ब्रजेश कुमार एवं ससुर का बहनोई विजय सिंह पुत्र रघुवीर सिंह निवासी ग्राम मुरादनगर थाना अहमदगढ़ बुलन्दशहर द्वारा हत्या करना प्रकाश में आया। थाना डिबाई पुलिस एक सूचना के आधार पर हत्या में संलिप्त मृतक के ससुर होराम सिंह व साले ब्रजेश को धर्मपुर रोड़ पंचमुखी चौराहे से गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की। अभियुक्तों की निशांदेही पर हत्या में प्रयुक्त आलाकत्ल दरांती भी घटना-स्थल के पास खेत से बरामद कर ली गयी है। 

गिरफ्तार अभियुक्तों होराम सिंह पुत्र कल्याण सिंह निवासी ग्राम बामनी थाना डिबाई जनपद बुलन्दशहर, ब्रजेश कुमार पुत्र होराम सिंह निवासी ग्राम बामनी थाना डिबाई से  आलाकत्ल दरांती और मृतक के कपड़े बरामदगी की है।

पत्नी, ससुर और सास के साथ दुर्व्यवहार व मारपीट के कारण की थी गोपाल की हत्या

पुलिस को अभियुक्तों ने पूछताछ में हत्या का कारण मृतक गोपाल अत्यधिक शराब पी कर अपनी पत्नी लक्ष्मी के साथ गलत व्यवहार एवं काफी मारपीट करता था तथा उसके ससुर होराम सिंह द्वारा भी कई बार उसको समझाया गया लेकिन वह शराब पी कर लडाई झगडा और अपने ससुर को भी अपमानित करता था गोपाल की सास अपनी बेटी लक्ष्मी की देखभाल करने गोपाल के घर गयी थी तो गोपाल द्वारा अपनी सास के साथ भी दुर्व्यवहार एवं मारपीट की गई थी। 

ये है पूरा मामला

23 मई को गोपाल की ससुराल ग्राम बामनी में सगाई थी जिसमें गोपाल भी गया था एवं होराम सिंह का बहनोई विजय सिंह भी आया हुआ था सभी लोग रात्रि में बैठकर शराब पी रहे थे होराम सिंह द्वारा गोपाल को ज्यादा शराब पिला दी थी उसके बाद नशे में हो कर गोपाल अपने ससुर के साथ मारपीट करने लगा तथा गाली गलौज करता हुआ खेतों की तरफ भागने लगा। तीनों लोग भी उसके पीछे खेतों की तरफ भागे तथा भागते हुए गोपाल खेत में गिर गया जहां पर होराम सिंह, ब्रजेश व विजय सिंह द्वारा चारा काटने की दरांती से उसकी गर्दन काट कर निर्मम हत्या कर दी गई थी। सिर को वहीं गड्ढा खोदकर छुपा दिया था और उसके धड़ को जनपद अलीगढ़ के थाना अतरौली क्षेत्र दादों के पास ले जाकर बम्बे में फेंक दिया था। 

कोतवाली पुलिस ने अभियुक्तों की गिरफ्तारी एवं बरामदगी के सम्बन्ध में थाना डिबाई पर अग्रिम वैधानिक कार्यवाही करते हुए अभियुक्तों को न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जा रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने