You have to wait 20 seconds.


बुलंदशहर। जेल में बंदियों एवं कर्मियों ने देखी जादूगरों की जादूगरी

ब्यूरो ललित चौधरी

बुलंदशहर। बुलंदशहर के जिला जेल में बंदियों एवं कर्मियों के मनोरंजन के लिए जादू का कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें कारागार के सभी अधिकारी व स्टाफ ने जादू का आनंद लिया। जादूगरों की टीम में प्रसिद्ध जादूगर मो रियाज, आस मोहम्मद, अरशद, अब्दुल आहद व रोहित द्वारा विभिन्न जादू के करतब दिखाकर सबका मन मोह लिया।

जादूगरों द्वारा हाथ की सफाई द्वारा चीजों को गायब कर देना, कबूतर, पैसा, कोल्ड ड्रिंक, माला आदि बना देना, आदमी को गायब कर देना ये सब दिखाकर सभी को आश्चर्यचकित कर दिया। मनोरंजन भरे इस जादू के कार्यक्रम को सभी बंदियों ने बहुत सराहा व भरपूर आनंद लिया। इससे जेल प्रशासन द्वारा आयोजित इस मनोरंजन पूर्ण कार्यक्रम का उद्देश्य फलीभूत नजर आया। सभी अधिकारियों द्वारा खुश होकर जादूगरों की टीम को इनाम भी दिए।

जिला जेल में आयोजित जादू के शो में करीब एक हजार से अधिक कैदियों ने मनोरंजन का लाभ लिया। जेल अधीक्षक मिजाजीलाल ने बताया कि कैदियों को मानसिक अवसाद से निकालने के लिए इस प्रकार के आयोजन बेहद जरूरी होते हैं। इससे कैदी की मानसिक स्थिति में काफी फायदा मिलता है। कैदियों को इस प्रकार के शो जीवन में नई उमंग पैदा करते हैं। इससे जेल का माहौल भी ख़ुशनुमा बना रहता है। इस मौके पर जिला जेल चिकित्सक डॉ केके सिंह समेत तमाम स्टाफ मौजुद रहे।


बुलंदशहर। प्लॉट बेचने का झांसा देकर 32.50 लाख की ठगी


बुलंदशहर। नगर क्षेत्र के एक व्यक्ति को प्लॉट बेचने का झांसा देकर नोएडा स्थित एक फर्म ने 32.50 लाख रुपये की ठगी कर ली। पुलिस ने चार नामजद आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

नगर के मोहल्ला साठा निवासी प्रतीक जैन ने एक शिकायती पत्र एसपी क्राइम को देकर बताया था कि 20 मार्च 2021 को उसने एक विज्ञापन ‌देखा, जिसमें नोएडा की फर्म एपीक रेसेडेंसी मल्टी स्टैट कापरेटिव ग्रुप हाउसिंग सोसायटी द्वारा नोएडा यूनिवर्सिटी के निकट 22500 रुपये प्रति गज के हिसाब से भूखंड बेचने की बात लिखी हुई थी। 

पीड़ित ने अपने भाई की सहमति से उक्त फर्म के माध्यम से 144 गज का प्लाट बुक किया। साथ ही विज्ञापन में आए नंबर पर कॉल की तो फोन संजीव कुमार सिंह निवासी सेवियर ग्रानसले, गाजियाबाद ने रिसीव किया, जिसने बुकिंग के लिए 11 हजार रुपये खाते में जमा करने को कहे। पीड़ित ने वह रकम जमा कर दी। साथ ही कंपनी की शर्तों के मुताबिक पीड़ित ने अगले नौ माह के भीतर किश्तों में प्लॉट की रकम करीब 32.50 लाख रुपये कंपनी के खाते में ट्रांसफर कर दी। आरोप है कि समय सीमा बीतने के बावजूद आरोपियों ने उसे प्लॉट का बैनामा नहीं किया। 

नगर कोतवाली प्रभारी संजीव कुमार शर्मा के मुताबिक आरोपी संजीव कुमार सिंह, हरपाल निवासी त्रिलोकपुरी पड़पड़गंज पूर्वी दिल्ली, पंकज सारस्वत निवासी वैशाली महागुन मॉल गाजियाबाद व जितेश सचदेवा निवासी एचयू प्रतीमपुरा सरस्वती विहार नोर्थ दिल्ली के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने