अलीगढ़। हरदुआगंज : ओपन बार ने पकड़ी फिर से गति, पुलिस फिर से बन रही अंजान

ब्यूरो डेस्क, अलीगढ़

हरदुआगंज कस्बे में बगीची रोड पर शराब के ठेके हैं। लोग शराब लेने बाद वहीं किसी जगह पर बैठकर खुले में ही शराब पीने लग जाते हैं। जिससे पुलिस फिर अंजान बन रही है।

हरदुआगंज :- कस्बा के बगीची रोड स्थित अंग्रेजी शराब के ठेके मौजूद हैं। लोग वहां पर शराब खरीदने के बाद खूब धडल्ले से खुले में ही ठेके के पास किसी जगह पर बैठकर शराब पीने लग जाते हैं। अंग्रेजी शराब ठेका के पास में ही यात्रियों के लिए प्रतिक्षालय बना हुआ है परंतु शराबी उस जगह पर भी बैठकर खुले आम शराब पीते हैं। जिससे आस–पास से गुजरने वाले लोग भी इनके कारण काफी परेशान रहते हैं। 

रात होते ही अंडे व मोमोज वालों की दुकानों पर मिलते हैं शराबी

ओपन बार का सिलसिला पहले से ही चलता आ रहा है। जिसका आज तक कुछ हल नहीं निकल पाया है। दिन में तो शराबी बाहर खुलेआम शराब पीते हैं और शाम होते ही ये लोग अंडे वालों के दुकानों पर शराब पीते मिलते हैं। ये दुकानदार शराबियों को शराब पीने से रोकते भी नहीं है। जिससे ये शराबियों का सिलसिला चलता ही रहता है।

पुलिस बन रही अंजान

ओपन बार को लेकर पुलिस सब जानकर भी अनजान बन रही है। यह सिलसिला काफी समय से चलता आ रहा है परंतु पुलिस फिर भी इस मामले में कुछ नहीं कर पा रही है।

मयखानों में तब्दील हो जाते हैं ढाबे

हरदुआगंज थाना क्षेत्र में रामघाट रोड पर संचालित ढाबे शराब के शौकीनों के लिए महफूज स्थल बन रहे हैं, शाम ढलते ही मयखानों तब्दील हो जाने वाले ढाबों पर अवैध शराब तक खपाई जा रही है। आबकारी विभाग व पुलिस सबकुछ जानकर भी अंजान बनी है।

हरदुआगंज थाना क्षेत्र में साधू-आश्रम से लेकर तालानगरी तक दर्जनभर से अधिक ढाबे संचालित है, जिन पर कानून के सभी नियम फेल हैं, देर आधी रात के बाद तक गुलजार रहने वाले इन ढाबों पर बाहर खाने के तो भीतर पीने के इंतजाम हैं, जिसके चलते शाम ढलते ही यहां शराबी इकट्ठा होना शुरू हो जाते हैं, जो देर रात तक जमे रहते हैं, कई बार शराबियों के गुटों में मारपीट होने पर पुलिस शराबियों को हवालात में तो डाल देती है। सूत्रों के अनुसार रात दस बजे के बाद ठेके बंद होने पर इन ढाबों पर अवैध शराब भी खपाई जाती है जो बड़ी घटना की कारण बन सकती है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने