You have to wait 20 seconds.


यूपी : थाने में सपा नेता के भाई बिलाल ने केक काट बर्थडे मनाया, गिफ्ट में थानेदार का हुआ ट्रांसफर


यूपी के अमरोहा में थाने में सपा नेता के भाई का बर्थडे मनाना और केक कटवाना इंस्पेक्टर को भारी पड़ गया. इस फोटो में देख सकते हैं कि कैसे एक राजनीति पार्टी से जुड़ा शख्स थानेदार की टेबल पर केक रखकर जश्न मना रहा है. अब कोतवाल साहब ही जब उस नेता का फेवर कर रहे हैं तो उनके थाने के सहकर्मी तो जाहिर है कि वो साथ में आएंगे. ऐसे में थाने में तैनात कई मातहत पुलिसकर्मी भी केक काटने से लेकर हैप्पी बर्थडे बोलने में शामिल हो गए. अब नेताजी ने जैसे ही ये फोटो अपने सोशल मीडिया पर अपलोड किए तभी से थानेदार से लेकर खाकीवर्दी पर सवाल उठने लगा. इन सवालों का नतीजा ये रहा है कि एसपी ने तुरंत उस थानेदार का ट्रांसफर कर दिया. 

ये मामला अमरोहा जनपद की हसनपुर कोतवाली का है. जहां के प्रभारी निरीक्षक सुशील कुमार वर्मा और उनके साथी दरोगा और सिपाही की मौजूदगी में हैप्पी बर्थडे मनाया गया. जिन शख्स का बर्थडे था उनका नाम बिलाल है. ये अमरोहा के चर्चित एक सपा नेता के भाई हैं. चूंकि बिलाल का इस थानेदार से खास लगाव था इसलिए उनका जन्मदिन भी थाने में ही मनाया गया. बाकायदा केक मंगाया गया. फिर उसे काटकर तालियां बजाई गईं. 

समाजवादी पार्टी के पूर्व नगर अध्यक्ष का भाई बिलाल हसनपुर में तमाम मामलों में चर्चा में रहता है. ये मामला इसी 8 सितंबर का बताया जा रहा है. नगर के मोहल्ला कुरैशियान का रहने वाला पूर्व सपा नगर अध्यक्ष युसूफ कुरैशी के छोटे भाई बिलाल का जन्मदिन था. बिलाल अपने दो-तीन साथियों के साथ रात करीब 9 बजे केक लेकर हसनपुर कोतवाली पहुंच गया. जिसके बाद हसनपुर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक कार्यालय में मेज पर रखकर पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में केक काटा गया. केक काटते समय शहर कोतवाल ने भी उसमें अपना हाथ लगाया और बर्थडे बॉय बिलाल को बधाइयां भी दी. लेकिन यह पूरा मामला तब बिगड़ जब भारतीय जनता पार्टी की योगी सरकार में समाजवादी पार्टी के पूर्व नगर अध्यक्ष के छोटे भाई बिलाल के द्वारा केक काटने के कुछ ही देर के बाद कोतवाल साहब के सानिध्य में केक काटने की तस्वीरें अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर पोस्ट कर दिए. जिस पर लोग तरह-तरह के कमेंट करने लगे और सवाल उठाने लगे. 

मुझे झांसे में लेकर केक कटवाया गया : थानेदार

 जब इस मामले में हसनपुर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक सुशील कुमार वर्मा से फोन पर बात की गई तो उन्होंने अपना तर्क दिया. उन्होंने कहा कि यह लोग मेरे पास हिन्दू-मुस्लिम एकता के नाम से कार्यक्रम के विषय में बात करने आए थे. जिसके बाद उन्होंने मुझे अपने विश्वास में लेकर केक काटने को कहा तो मैंने मानवता दिखाते हुए उसका केक कोतवाली परिसर में कटवा दिया. लेकिन मुझे इसकी बिल्कुल भी जानकारी नहीं थी कि वह इन फोटो को सोशल मीडिया अकाउंट पर वायरल करेगा. उन्होंने इस पूरे मामले में बिलाल नाम के युवक के खिलाफ कार्रवाई की बात भी कही है.

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने