यूपी। ' रिश्वत नही ' यह हुनर के पैसे है बुलंदशहर में खुलेआम घुस मांगते बिजली विभाग के बाबू का वीडियो वायरल... पढ़िए पूरी खबर

 

ब्यूरो ललित चौधरी

बुलंदशहर में बिजली विभाग में तैनात बाबू का वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वो खुलेआम किसान ने रिश्वत मांगता हुआ दिखाई दे रहा है और इसे वो अपना हुनर बताता है।

उत्तर प्रदेश में तमाम दावों के बावजूद अब भी सरकारी कार्यालयों में कई अधिकारी और कर्मचारी ऐसे हैं जो बेखौफ होकर खुलेआम भ्रष्टाचार कर रहे हैं. ताजा मामला बुलंदशहर जनपद का है, जहां बिजली विभाग में तैनात एक बाबू खुलेआम रिश्वत मांगता नजर आ रहा है। यही नहीं वो तो रिश्वत के एवज में काम करने को अपना हुनर बता रहा है। 

जिसका एक वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हो गया है. ये मामला बिजली दफ्तर में हुनरबाज बिल बाबू पंकज गुप्ता की रिश्वतखोरी का है. जिसमें वो बिना किसी खौफ के उपभोक्ता से अपने हुनर का कमाल दिखाकर पैसों की डिमांड कर रहा है।

बिजली विभाग के बाबू का वीडियो वायरल

पंकज गुप्ता का जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें वो किसान से कहता दिखता है कि रिश्वत के पैसे वो अपने हुनर के दम पर काम करने के लिए मांग रहा है. और रिश्वत तय करने से पहले दलील दे रहा है कि शरीर वैसे ही बैठा हुआ है काम करते करते आज मैडम सब्जी लेने गईं, सब्जी वाले ने एक रुपया तक कम नहीं किया तो बताओ मैं तुमसे कुछ कह थोड़ी रहा हूँ काम करवाना है तो ठीक नहीं तो जमा कर दो, बिल में कोई हेरा फेरी थोड़ी है ये तो हुनर के पैसे है जो मैं तुम्हारा काम करके ले रहा हूं, पहले ही तय कर लिया था।

रिश्वत को कहा अपने हुनर का पैसा

इसके आगे वो कहता है कि एक बिजली उपभोक्ता का 18 हज़ार रुपये का बिल था जिसको 24 हजार रुपये में निपटने के लिए बाबूजी 6000 रुपये की रिश्वत तय कर रहे हैं. वहीं किसान कहता है कि हमारे पास पैसे नहीं हैं, ये भी हम मांग कर लाए हैं. 1000 रुपये आप ले लो, मगर यहां भी उनका दिल नहीं पसीजा और वो कहते हैं कि कोई नहीं किश्तों में बिल जमा कर देना.. आज 29 का है बिल कल 50 का होगा. इस पर जब किसान 1000 हजार रुपये देने की बात कहता है तो वो कहता है कि आधे-आधे में बात हुई थी, तुम मुझे 3000 रुपए दे दो नहीं तो 2500 ही दे दो इससे ज्यादा कम नहीं हो पाएगा।

चीफ इंजीनियर ने कही कार्रवाई की बात

पंकज गुप्ता बुलंदशहर पॉवर कॉरपोरेशन की डिवीजन-5 में तैनात है. इस बारे में चीफ इंजीनियर विनोद कुमार ने कहा कि डिवीजन 5 के संबंधित अधिकारियों को इसके संबंध में जानकारी दे दी गई है। इन पर कार्रवाई सुनिश्चित है. मगर सवाल ये है कि आखिर बिना किसी बड़े अधिकारी के सर पर हाथ हुए ये कैसे बिजली के बिल में हेराफेरी कर सकता है और अब तक ये कितने बिलों में हेराफेरी कर विभाग को चूना लगा चुका है, इसकी जांच होना जरूरी है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने