You have to wait 20 seconds.


अलीगढ़/बुलंदशहर। फेसबुक पर हुई थी दोस्ती, कोतवाली में किया निकाह : अलीगढ़ की गुड़िया को बुलंदशहर के आरिफ से हुआ प्यार, शादी के लिए मना किया तो पहुंच गई थाने

 

ब्यूरो डेस्क, समाचार दर्पण लाइव

अलीगढ़/बुलंदशहर। अलीगढ़ की एक लड़की की बुलंदशहर के एक लड़के से फेसबुक पर दोस्ती हो गई। बात करते-करते दोनों को प्यार हो गया। मिलना-जुलना शुरू हुआ। फिर बात शादी तक पहुंच गई। शादी की बात से ही लड़का मिलने में आनाकानी करने लगा। फोन पर बात करना भी बंद कर दिया।

इस बात से नाराज लड़की गुरुवार को थाने पहुंच गई। उसने पुलिस को अपनी पूरी प्रेम कहानी बताई। इसके बाद पुलिस ने लड़के को शुक्रवार को थाने में बुलाकर दोनों का निकाह करवा दिया। मामला जहांगीराबाद कोतवाली का है।

प्राइवेट नौकरी करता है आरिफ

प्रेमी आरिफ जहांगीरबाद के रिवाड़ा गांव का रहने वाला है। प्रेमिका गुड़िया अलीगढ़ की मोहल्ला बन्ना देवी की रहने वाली है। आरिफ प्राइवेट नौकरी करता है। वहीं गुड़िया अभी पढ़ाई लिखाई कर रही है। आरिफ की उम्र 24 साल है। गुड़िया की उम्र 21 साल है।

डेढ़ साल से चल रहा है अफेयर

गुड़िया ने पुलिस को बताया, डेढ़ साल पहले आरिफ ने उसको फेसबुक पर रिक्वेस्ट भेजा था। उसने फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली थी। काफी दिनों तक हम लोगों की मैसेज पर ही बात हुई। एक दिन आरिफ ने उसका नंबर मांगा। उसने काफी सोच विचार करने के बाद उसको नंबर भेज दिया। उसी रात आरिफ ने उसको फोन किया। पहली बार हम लोगों की 15 मिनट तक बात हुई थी।

घर पर हो रही थी शादी की बात

3 महीन बाद आरिफ ने मुझको मिलने बुलाया। मैं अलीगढ़ से बुलंदशहर उससे मिलने आई। तब उसने मुझे गिफ्ट भी दिए थे। उसके बाद हम अक्सर मिलने लगे। अभी कुछ दिन पहले मेरे घर में शादी की बात होने लगी तो मैं डर गई। मैं आरिफ से शादी करना चाहती थी। मैंने आरिफ को ये बात बताई तो वो शादी करने की बात कहने लगा। मैंने घर में भी ये बात बता दी।

घर वाले शादी के लिए नहीं मानेंगे

शादी की बात के बाद से आरिफ कुछ बदल गया था। वो न मिलने के लिए बोलता और न ही फोन करता। मैं ही उसको बार-बार फोन करती थी। इधर घर वाले भी उससे मिलने का दबाव बना रहे थे। मैंने आरिफ से एक दिन सीधे-सीधे शादी के लिए पूछ लिया तो उसने मना कर दिया। उसने कहा मेरे घर वाले शादी के लिए नहीं मानेंगे। मैं तुमसे शादी नहीं कर सकता।

पुलिस को सुनाई प्रेम कहानी

इस बात पर मुझे बहुत गुस्सा आया। कुछ दिन रुकने के बाद मैं गुरुवार को बुलंदशहर आई। मैंने पुलिस से आरिफ की शिकायत कर दी। पूरी बात सुनने के बाद पुलिस ने मुझसे शुक्रवार को परिवार के साथ आने के लिए कहा। आज सुबह मैं परिवार के साथ थाने पहुंची। आरिफ के परिवार वाले भी मौके पर आए। पुलिस ने दोनों परिवारों से बात की, उन्हें समझाया। जिसके बाद सब लोग मान गए।

11 हजार रुपए का उपहार दिया

इसके बाद कोतवाल साहब ने जयमाला मंगवाई। हम लोगों ने एक दूसरे को माला पहनाई। फिर काजी ने निकाह की बाकी रस्में पूरी करवा दीं। प्रेमी उसका परिवार अपनी बहू को लेकर कोतवाली से विदा हो गए। कोतवाल साहब ने बेटी को विदाई में 11 हजार रुपए का उपहार भी दिया।

लिखित प्रक्रिया भी करवाई गई

मामले में कोतवाली प्रभारी नीरज कुमार ने बताया, दस्तावेज के आधार पर युवक और युवती दोनों बालिग हैं। दोनों ही परिवार के सदस्य एक दूसरे की शादी के लिए रजामंद हैं। शादी के बाद लिखित प्रकिया भी पूरी करवाई गई है। दोनों परिवार और युवक-युवती खुशी-खुशी युवक के गांव रवाना हो गए।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने