जवानों ने ट्रेन में किया रेप, कोच में मिले सबूत:अंदर टूटी चूड़ियां, बाहर शराब की खाली बोतलें मिलीं; 36 घंटे बाद तीसरा जवान अरेस्ट

SDLive News

झांसी रेलवे स्टेशन में जिस कोच में आर्मी जवानों ने दो महिलाओं के साथ रेप किया था, वहां फोरेंसिक टीम को जांच में कई अहम सबूत मिले हैं। सोमवार को करीब डेढ़ घंटे तक टीम ने कोच से सबूत जुटाए। कोच में चूड़ियों के टुकड़े बिखरे हुए मिले। वहीं, कोच के बाहर शराब की खाली बोतलें मिली हैं। उधर, सोमवार रात को वारदात के 36 घंटे बाद तीसरे आरोपी आर्मी जवान रविंद्र को भी GRP ने अरेस्ट कर लिया है।

स्टेशन पर मिलिट्री कोच में रेप के मामले में सोमवार को DRM आशुतोष और GRP SP मोहम्मद मुस्ताक ने कोच का जायजा लिया। वहीं, फॉरेंसिक टीम को कोच के भीतर आरोपी जवानों के कपड़े और अन्य सामान भी अस्त-व्यस्त मिला है। माना जा रहा है कि दुष्कर्म से बचने के लिए महिलाओं ने आरोपियों का जमकर विरोध किया।

पीड़ित महिलाओं ने अपने बयान में भी कहा है कि कोच में घुसते ही आरोपी उनके साथ छेड़खानी करने लगे थे। इसका उन्होंने विरोध किया था। इसके बाद आरोपियों ने जान से मारने की धमकी देते हुए उनके साथ रेप किया। फिलहाल, कोच को सील करके उस पर ताला लगाकर बंद कर दिया गया है।

पीड़िताओं का आरोप- नशे में धुत थे आरोपी

पीड़ित महिलाओं ने पुलिस को बताया था कि आरोपी जवान नशे में धुत थे। आरोपी तीनों जवानों का मेडिकल कराया गया है। वहीं, SP मोहम्मद मुस्ताक ने बताया कि दोनों पीड़ित महिलाओं का भी मेडिकल कराया गया है। उनकी रिपोर्ट आ चुकी है। रिपोर्ट में उनके द्वारा लगाए गए आरोप सही पाए गए हैं। कोच के अंदर आरोपियों ने मीट भी खाया था। हडि्डयों के टुकड़े कोच में रखे हुए थे।

अब पढ़िए...कैसे 36 घंटे बाद पकड़ में आया तीसरा आरोपी

कोच में रेप मामले में फरार चल रहे तीसरे आरोपी आर्मी जवान रविंद्र को सोमवार रात GRP ने गिरफ्तार कर लिया। चेकिंग के दौरान GRP ने उसे यार्ड एरिया से पकड़ा। पहले तो उसने खुद को रेलवे कर्मचारी बताकर भागने की कोशिश की, लेकिन बालों की कटिंग देखकर GRP ने पूछताछ की तो सच्चाई सामने आ गई।

पूछताछ में सामने आया कि रविंद्र ही दोनों महिलाओं को कोच तक ले गया था। रविंद्र और उसके साथी संदीप तिवारी ने रेप किया। जबकि तीसरा आरोपी सुरेश रावत कोच के गेट पर बैठा रहा। पुलिस सुरेश रावत और संदीप तिवारी को पहले ही गिरफ्तार करके जेल भेज चुकी है।

सुरेश रावत उत्तराखंड का रहने वाला है। उसकी इस वक्त लेह में पोस्टिंग थी। वहीं, संदीप बिहार के सीवान का रहने वाला है। उसकी पोस्टिंग सिकंदराबाद में थी। वहीं, रविंद्र पंजाब के होशियापुर का रहने वाला है। वर्तमान में उसकी पोस्टिंग भटिंडा में थी। रविंद्र की तलाश में एक टीम पंजाब भी गई थी।

अब पढ़िए कैसे जवानों ने महिलाओं को चंगुल में फंसाकर रेप किया

पुलिस ने आर्मी के दो जवानों सुरेश रावत और संदीप को पहले ही गिरफ्तार कर लिया था।

महिलाओं से कहा था- हमारा फोन खो गया, एक कॉल करनी है

यह पूरी घटना रविवार शाम की है। GRP के मुताबिक, दोनों महिलाएं एक रिश्तेदार से मिलने के लिए स्टेशन आई थी। यहां से वापस लौट रही थी। स्टेशन के बाहर एक युवक मिला। वो कहने लगा कि मोबाइल खो गया है। उसने कॉल लगाने के लिए मोबाइल मांगा तो महिला ने दे दिया। वो बात करते हुए स्टेशन के अंदर चला गया। ये कहते हुए कि देखते हैं, हमारा मोबाइल मिल जाए तो...।

दोनों महिलाएं उसके पीछे-पीछे प्लेटफार्म नंबर-7 पर पहुंच गए। वहां मिलिट्री ट्रेन खड़ी थी। वो दोनों को एक कोच में ले गया। वहां पहले से दो जवान मौजूद थे। कोच में प्रवेश करते ही एक जवान ने दरवाजा बंद कर लिया और महिलाओं का मोबाइल लेकर कोच के दरवाजे पर बैठ गया। जान से मारने की धमकी देकर दो जवानों ने दोनों महिलाओं से रेप किया।

GRP SP ने बताया कि पूछताछ में संदीप ने गुनाह कबूल कर लिया है। जवान ने कहा, साहब गलती हो गई, माफी चाहते हैं। मैंने (संदीप और रविंद्र) ने महिलाओ के साथ गलत काम किया है। सुरेश रावत मौके पर मौजूद था।

जवानों का हो सकता है कोर्ट मार्शल

GRP एसपी ने कर्नल से फोन पर बातचीत करते हुए पूरी घटना से अवगत कराया है। इसके साथ ही सेना को घटना की पूरी रिपोर्ट भेजी गई है। सैन्य अफसरों ने भी GRP से मामले से जुड़ी पूरी जानकारी जुटाई है। बताया जा रहा है कि सेना भी अपनी जांच करेगी। जवानों का कोर्ट मार्शल हो सकता है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने